Amitabh Bachchan Birthday: AIR में रिजेक्शन, 12 फ्लॉप फिल्में, एक रात में बॉलीवुड के ‘शहंशाह’ नहीं बने अमिताभ बच्चन

 180 ,  1 

अमिताभ बच्चन का आज 78वां जन्मदिन है. इस मौके पर उन्हें पूरे देश से बधाई संदेश मिल रहे हैं. बॉलीवुड, खेल जगत और राजनीतिक गलियारे से लेकर फैन्स में भी अमिताभ बच्चन के बर्थडे के लिए खूब जोश है. सभी अपने-अपने तरीके से महानायक को बधाई दे रहे हैं. अपनी जबरदस्त फिल्मों और डायलॉग से अमिताभ बच्चन ने हिंदी सिनेमा में जबरदस्त पहचान बनाने के साथ ही लोगों के दिलों में भी खूब जगह बनाई है.

इंजीनियर बनना चाहते थे कभी अमिताभ बच्चन

11 अक्टूबर 1942 को अमिताभ बच्चन का जन्म उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में हुआ था। अमिताभ बच्चन के पिता डॉ हरिवंश राय बच्चन काफी मशहूर कवि थे. उनकी मां तेजी बच्चन कराची से थी. अमिताभ बच्चन कभी इंजीनियर बनने या एयरफोर्स में जाने का सपना देखा करते थे लेकिन किस्मत में तो हिंदी सिनेमा के रूपहले पर्दे पर पहचान बनानी लिखी थी. देखिए आज वह बॉलीवुड के सबसे सफल व दिग्गज अभिनेता माने जाते हैं.

शुरूआत में 12 फिल्में फ्लॉप, फिर यूं बने ‘शहंशाह’

फिल्मी करियर की शुरुआत में उन्हें लगातार 12 फ्लॉप फिल्में झेलनी पड़ी थीं. अमिताभ बच्चन को उनकी भारी भरकम आवाज की वजह से ऑल इंडिया रेडियो ने भी रिजेक्ट कर दिया था. हालांकि, इसके बाद उन्होंने फिल्म जंजीर से बॉलीवुड में अपनी अलग ही पहचान बना ली.

इस फिल्म के बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और लगातार नए कीर्तिमान स्थापित करते गए. देखते ही देखते अमिताभ बच्चन बॉलीवुड के शहंशाह बन गए. अमिताभ की फिल्मों की सबसे बड़ी खासियत उनके डायलॉग हुआ करते हैं. ये ऐसे होते हैं कि तुरंत लोगों की जुबान पर चढ़ जाते थे. कई डायलॉग तो हमारी जीवनशैली का ही हिस्सा बन चुके हैं. 

एक्टिंग का मनवाया लोहा

अमिताभ बच्चन ने कई बेहतरीन और सुपर-डुपर हिट फिल्में दी हैं. उन्होने सात हिंदुस्तानी, आनंद, जंजीर, अभिमान, सौदागर, चुपके-चुपके, दीवार, शोले, कभी-कभी, अमर-अकबर एंथनी, मुकद्दर का सिकंदर, डॉन, त्रिशूल, मि. नटवरलाल, लावारिस, सिलसिला, कालिया, सत्ते पर सत्ता, नमक हलाल, शक्ति, कुली, शराबी, मर्द, शहंशाह, अग्निपथ, मोहब्बतें, निशब्द, बंटी और बबली. चीनी कम, पा, ब्लैक, पीकू, सत्याग्रह जैसी फिल्मों में अपनी अदाकारी का लोहा मनवाया है.

कई पुरस्कार से किये जा चुके है सम्मानित

अमिताभ बच्चन को उनकी बेहतरीन एक्टिंग के फिल्म दादा साहेब फाल्के पुरस्कार भी दिया गया है. इसके अलावा उन्हें तीन राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और 12 फिल्मफेयर पुरस्कार भी मिल चुके हैं शुरू में अमिताभ का नाम इंकलाब रखा गया था लेकिन बाद में सुमित्रानंदन पंत जोकि एक प्रसिद्ध कवि हैं, ने इनका नाम ‘अमिताभ’ रखा.

दिलचस्प

राजनीति

व्यापार