वकीलों की फीस चुकाने के लिए गहने बेच रहा भारत के सबसे अमिर व्यक्ति का भाई

 290 ,  1 

किसी समय अनिल अंबानी का नाम भारत के शीर्ष उद्योगपतियों में लिया जाता था और अब हालत यह है कि उन्हें अपने वकीलों की फीस भरने के लिए गहने तक बेचने पड़ रहे हैं। अनिल अंबानी ने स्वयं यह बात यूके की एक अदालत को बतायी है। कर्ज से जूझ रहे अनिल अंबानी ने यूके की अदालत से कहा कि वे एक बेहद साधारण जीवन जी रहे हैं, केवल एक कार चलाते हैं और वकीलों की फीस भरने के लिए अपने गहने भी बेच दिये हैं।

उन्होंने कहा कि उन्हें जनवरी से जून 2020 के बीच अपनी सभी गहनों से 9.9 करोड़ रुपये प्राप्त हुए हैं और अब उनके पास कोई भी कीमती वस्तु नहीं बची है।

किसी समय अनिल अंबानी का नाम भारत के शीर्ष उद्योगपतियों में लिया जाता था और अब हालत यह है कि उन्हें अपने वकीलों की फीस भरने के लिए गहने तक बेचने पड़ रहे हैं। अनिल अंबानी ने स्वयं यह बात यूके की एक अदालत को बतायी है। कर्ज से जूझ रहे अनिल अंबानी ने यूके की अदालत से कहा कि वे एक बेहद साधारण जीवन जी रहे हैं, केवल एक कार चलाते हैं और वकीलों की फीस भरने के लिए अपने गहने भी बेच दिये हैं।

उन्होंने कहा कि उन्हें जनवरी से जून 2020 के बीच अपनी सभी गहनों से 9.9 करोड़ रुपये प्राप्त हुए हैं और अब उनके पास कोई भी कीमती वस्तु नहीं बची है।

यूके की अदालत ने 22 मई 2020 को अनिल अंबानी को आदेश दिया था कि वे तीन चीनी बैंकों का 12 जून 2020 तक  71,69,17,681 डॉलर (करीब 5,281 करोड़ रुपये) का कर्ज चुकाएं और बतौर कानूनी खर्च 50,000 पाउंड (करीब 7 करोड़ रुपये) का भुगतान करें।

अदालत को दिए एक एफिडेविट में अनिल अंबानी ने कहा कि उन्होंने रिलायंस इनोवेंचर्स को पांच अरब रुपये का कर्ज दिया है। साथ ही अंबानी ने बताया कि रिलायंस इनोवेंचर्स में 1.20 करोड़ इक्विटी शेयरों की कोई कीमत नहीं है। उन्होंने कहा कि ना तो उनके पारिवारिक ट्रस्ट और ना ही दुनिया के किसी ट्रस्ट में उनका कोई आर्थिक हित है।

दिलचस्प

राजनीति

व्यापार