कोरोना वायरस ने भारत में दी दस्तक! निगरानी में रखे गए दो संदिग्ध मरीज

  • मुंबई में कोरोना वायरस के मिले दो संदिग्ध
  • अस्पताल में निगरानी में रखे गए
  • चीन में अब तक 25 लोगों की मौत

चीन से भारत लौटे दो लोगों को कोरोना वायरस की गिरफ्त में होने की संभावना के मद्देनजर यहां मेडिकल ऑब्जर्वेशन में रखा गया है. बता दें कि चीन में गंभीर रूप से फैले इस वायरस से लोग बुरी तरह प्रभावित हुए हैं और कई की मौत भी हुई है. बीएमसी के एक स्वास्थ अधिकारी ने शुक्रवार को ये जानकारी दी. चीन में ये वायरस फैलने के चलते बीएमसी ने इससे पीड़ित होने की संभावना वाले मरीजों के लिए चिंचपोकलीके कस्तूरबा अस्पताल में एक स्पेशल वार्ड का इंतजाम किया है.

जानकारी के मुताबिक चीन से लौटे दो लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की आशंका जताई जा रही है. दोनों मरीजों को कस्तूरबा अस्पताल में अलग वार्ड में भर्ती किया गया है. कस्तूरबा अस्पताल के स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक दोनों मरीजों का हल्के सर्दी-जुकाम के लक्षण हैं. फिलहाल अस्पताल में भर्ती मरीजों को इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है. दरअसल चीन में कोरोना वायरस फेलने से लोगों में दहशत का माहैल है. इसके चलते बड़ी संख्या में लोगों कोरोना वायरस से संक्रमित हैं और कई लोगों की मौत हो चुकी है.

कोरोनो वायरस क्या है

वायरसों का एक बड़ा समूह है कोरोना जो जानवरों में आम है. अमेरिका के सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीएस) के अनुसार, कोरोना वायरस जानवरों से मनुष्यों तक पहुंच जाता है. अब एक नया चीनी कोरोनो वायरस, सार्स वायरस की तरह है जिसने सैकड़ों को संक्रमित किया है. हांगकांग विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के वायरोलॉजिस्ट लियो पून, जिन्होंने पहले इस वायरस को डिकोड किया था, उन्हें लगता है कि यह संभवतः एक जानवर में शुरू हुआ और मनुष्यों में फैल गया.

चीन के वुहान से निकला वायरस सार्स जैसा खतरनाक

वैज्ञानिक लियो पून के मुताबिक, “हमें पता है कि यह निमोनिया का कारण बनता है और फिर एंटीबायोटिक उपचार का जवाब नहीं देता है, जो आश्चर्यजनक नहीं है. फिर मृत्यु दर के मामले में SARS 10 फीसदी व्यक्तियों को मारता है, यह स्पष्ट नहीं है कि वुहान कोरोना वायरस कितना घातक होगा. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सभी देशों को दिशा-निर्देश जारी किए हैं कि वे कैसे इससे निपटने की तैयारी कर सकते हैं, जिसमें बीमार लोगों की निगरानी कैसे की जाए और मरीजों का इलाज कैसे किया जाए. कुछ महत्वपूर्ण बातें जो आपको एक कोरोनो वायरस के बारे में पता होनी चाहिए –

कोरोना वायरस के असर के लक्षण

वायरस लोगों को बीमार कर सकते हैं, आम तौर पर श्वसन तंत्र की बीमारी के साथ या एक आम सर्दी के समान. कोरोना वायरस के लक्षणों में नाक बहना, खांसी, गले में खराश, कभी-कभी सिरदर्द और शायद बुखार शामिल है, जो कुछ दिनों तक रह सकता है. कमजोर प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों यानी जिनकी रोगों से लड़ने की ताकत कम है ऐसे लोगों के लिए यह घातक है. बुजुर्ग और बच्चे इसके आसान शिकार हैं.

दिलचस्प

राजनीति

व्यापार