आज से हर 4 पहिया गाड़ी में फास्टैग लगवाना जरूरी; कैसे लगवाएं, कहां से खरीदें और कितनी होगी इसकी वैलिडिटी? जानिए सब कुछ

 247 ,  2 

आज से सभी चार पहिया गाड़ियों को टोल चुकाने के लिए फास्टैग लगवाना जरूरी होगा। देश के किसी भी नेशनल हाईवे के टोल प्लाजा को क्रॉस करते समय इसकी जरूरत पड़ेगी। बार-बार टाले जाने के बाद आखिरकार इसे आज से लागू कर दिया गया है। फास्टैग क्या है, कैसे काम करेगा, आप इसे कैसे लगवा सकते हैं।

केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने नागपुर हवाई अड्डे पर FASTag के एक प्रश्न का उत्तर देते हुए मीडिया से कहा कि सरकार ने फास्टैग पंजीकरण की तारीख सीमा को दो-तीन बार बढ़ा दिया है, और अब इसे आगे नहीं बढ़ाया जाएगा। फिलहाल हर किसी को तुरंत FASTag खरीदना चाहिए।

बताते चलें कि, FASTag को सड़कों पर चलने वाले करीब 90 प्रतिशत लोग खरीद चुके हैं, ऐसे में केवल 10 प्रतिशत लोग ही बचे हैं। वहीं आज से वाहन पर फास्टैग नहीं होने पर अब आपको दोगुना टोल टैक्स देना पड़ सकता है।

फास्टैग क्या है?

फास्टैग एक इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम है। जो एक स्टिकर के रूप में होता है। ये आपको अपनी कार या गाड़ी की विंडशील्ड पर लगाना होगा। ये फास्टैग रेडियो-फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) टेक्नोलॉजी से काम करता है। हर फास्टैग संबंधित गाड़ी के रजिस्ट्रेशन डिटेल के साथ जुड़ा होता है। इसे लगाने के बाद आपको टोल प्लाजा पर रुककर टोल फीस के पैसे कैश के रूप में नहीं देने होंगे।

कहां से खरीदें : FASTag टोल प्लाजा पर भी खरीद के लिए उपलब्ध है। इसके अलावा आप बैंक, पेटीएम Amazon.in, HDFC Bank, ICICI Bank, State Bank of India, Kotak bank, Axis Bank साथ-साथ पेटीएम पेमेंट्स बैंक से भी खरीद सकते हैं। केंद्र सरकार ने वाहनों के लिए FASTag की समय सीमा 1 जनवरी 2021 से बढ़ाकर 15 फरवरी 2021 कर दी है।

बैंक से फास्टैग लेना हो तो ये डॉक्यूमेंट लेकर जाएं

बैंक से फास्टैग लेने के लिए आपको KYC डॉक्यूमेंट, गाड़ी की RC, पासपोर्ट साइज फोटो, पैन कार्ड, एड्रेस और ID प्रूफ की जरूरत होगी। आप चाहें तो अपना लाइसेंस, ID और एड्रेस प्रूफ के रूप में जमा कर सकते हैं। अगर आप अपने बैंक से फास्टैग लेते हैं, यानी जिस बैंक में आपका अकाउंट है तो वहां आपको सिर्फ RC ले जाने की जरूरत होगी।

देश में ढाई करोड़ फास्टैग यूजर

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) ने 2019 में फास्टैग से टोल लेने की शुरुआत की थी। जनवरी 2021 तक देशभर में 2.49 करोड़ से ज्यादा फास्टैग यूजर थे। देश के कुल टोल कलेक्शन में फास्टैग की 80% हिस्सेदारी है। जनवरी में फास्टैग के जरिए रोजाना करीब 77 करोड़ रुपए के टोल टैक्स की वसूली हुई।

फास्टैग कितने का मिलेगा और कितने समय के लिए वैलिड होगा?

फास्टैग की कीमत दो चीजों से तय होती है। पहला आपकी गाड़ी कौन सी है और दूसरा आप इसे कहां से खरीद रहे हैं। बैंकों के ऑफर के हिसाब से भी इसकी कीमत में कुछ अंतर मिलेगा। आप जिस बैंक से फास्टैग लेते हैं, वो इश्यू फी और सिक्योरिटी डिपॉजिट के रूप में कितना पैसा चार्ज करता है, उससे भी इसकी कीमत में अंतर आता है। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि इसकी वन टाइम फीस 200 रुपए है।

रि-ईश्यू करने की फीस 100 रुपए और रिफंडेबल सिक्योरिटी डिपॉजिट 200 रुपए है। एक बार खरीदा गया फास्टैग स्टिकर पांच साल के लिए वैलिड होगा। SBI जैसे बैंक अनलिमिटेड वैलिडिटी का फास्टैग ऑफर कर रहे हैं। जैसे- अगर आप पेटीएम से कार के लिए फास्टैग खरीदते हैं तो आपको इसके लिए 500 रुपए खर्च करने होंगे।

दिलचस्प

राजनीति

व्यापार