September 28, 2022
September 28, 2022
Menu

जीएसटी कलेक्शन सर्वकालिक रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा

 199 ,  1 

अप्रैल में बढ़कर 1.68 लाख करोड़ रुपये हुआ

माल एवं सेवा कर (जीएसटी) संग्रह अप्रैल, 2022 में 1.68 लाख करोड़ रुपए के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया है। अप्रैल, 2022 में जीएसटीआर-3बी में कुल 1.06 करोड़ जीएसटी रिटर्न भरे गए। इनमें से 97 लाख रिटर्न मार्च, 2022 के हैं।

वित्त मंत्रालय ने एक बयान में यह जानकारी देते हुए कहा कि कर अनुपालन में सुधार से जीएसटी संग्रह का आंकड़ा बेहतर हुआ है। अप्रैल, 2021 की तुलना में अप्रैल 2022 में जीएसटी संग्रह 20 फीसद बढ़ा है। अप्रैल 2021 में जीएसटी संग्रह 1.40 लाख करोड़ रुपए रहा था।

मंत्रालय ने कहा कि सकल जीएसटी संग्रह अप्रैल में 1.68 लाख करोड़ रुपए के रेकार्ड पर पहुंच गया। यह पिछले उच्च स्तर मार्च, 2022 के 1.42 लाख करोड़ रुपए से करीब 25,000 करोड़ रुपए अधिक है। अप्रैल में सकल जीएसटी संग्रह 1,67,540 करोड़ रुपए रहा। इसमें केंद्रीय जीएसटी (सीजीएसटी) का हिस्सा 33,159 करोड़ रुपए, राज्य जीएसटी (एसजीएसटी) का हिस्सा 41,793 करोड़ रुपए और एकीकृत जीएसटी (आइजीएसटी) का हिस्सा 81,939 करोड़ रुपए रहा। आइजीएसटी में 36,705 करोड़ रुपए वस्तुओं के आयात पर जुटाए गए।

वहीं इसमें उपकर का हिस्सा 10,649 करोड़ रुपए (857 करोड़ रुपए वस्तुओं के आयात पर जुटाए गए) रहा। मंत्रालय के मुताबिक, इस बात के स्पष्ट संकेत हैं कि अनुपालन के स्तर में सुधार हुआ है। कर प्रशासन ने इस बारे में कई उपाय किए हैं जिनके सकारात्मक नतीजे मिल रहे हैं। विभाग ने करदाताओं को अपना रिटर्न समय पर भरने के लिए प्रेरित करने के साथ कर अनुपालन को भी सुगम किया है।

मंत्रालय ने कहा कि समीक्षाधीन महीने में वस्तुओं के आयात से राजस्व पिछले साल के समान महीने से 30 फीसद ऊंचा रहा, जबकि घरेलू लेनदेन (सेवाओं के आयात) से राजस्व 17 फीसद अधिक रहा। मार्च, 2022 में कुल 7.7 करोड़ ई-वे बिल निकाले गए। यह फरवरी, 2022 के 6.8 करोड़ के आंकड़े से 13 फीसद अधिक है। मंत्रालय ने कहा कि इन आंकड़ों से कारोबारी गतिविधियों में सुधार का पता चलता है।