गुजरातः स्कूल शुल्क माफ करने के लिए विधानसभा के बाहर आप का अनशन, 300 कार्यकर्ता गिरफ्तार

 107 ,  1 

कोरोना महामारी के कारण देश में घोषित हुए लोकडाउन के बाद से सभी शिक्षा संस्थाएं बंद है। गुजरात में भी सभी स्कूल- कालेज सहित की शिक्षा संस्थानों को सरकार द्वारा अनिश्चितकालिन तक बंद किया गया। लेकिन इसके बाद भी स्कूल संचालकों द्वारा छात्रों व उनके अभिभावकों पर स्कूल शुल्क देने के लिए दवाब डाला जा रहा है।

स्कूल शुल्क नहीं भरनेवाले छात्रों को स्कूल से निकालने की धमकी दी जा रही है। ऐसे में आम आदमी पार्टी छात्रों व अभिभावकों के हित में आगे आयी है। आम आदमी पार्टी के 300 से अधिक कार्यकर्ता छात्रों का स्कूल शुल्क माफ करने के लिए गुजरात विधानसभा कार्यालय के सामने अनशन पर बैठे थे। लेकिन पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

आम आदमी पार्टी का आरोप है कि कोरोना काल में लोगों की आर्थिक स्थिति खराब हो गई है। ऐसे में उनसे स्कूल शुल्क वसूलना अन्याय है। स्कूल बंद है तो किस बात की फीस मांगी जा रही है। आम आदमी पार्टी का आरोप है कि गुजरात की भाजपा सरकार में भ्रष्टाचार, निजीकरण के कारण आम लोगों में आक्रोष दिखने मिल रहा है। सरकार के कारण छात्रों का भविष्य अंधकारमय हो रहा है।

गुजरात सरकार को केजरीवाल सरकार से सिखना चाहिए

आम आदमी पार्टी का कहना है कि गुजरात की भाजपा सरकार को दिल्ली की केजरीवाल सरकार से कुछ सिखना चाहिए । दिल्ली की अरंविद केजरीवाल सरकार ने कोरोना के इस संकट के समय में स्कूल, इलेक्ट्रिक बिल,पानी बिल इत्यादि सुविधाओं का शुल्क माफ कर दिया है। लेकिन गुजरात की यह सरकार केवल टेक्स व आम जनता पर मंहगाई का बोझ डालकर आम जनता की कमर तोड़ रही है। आम आदमी पार्टी ने कहा कि अगर सरकार छात्रों का स्कूल शुल्क माफ नहीं करती है तो आगामी दिनों आप द्वारा पूरे राज्यभर में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया जायेगा।

दिलचस्प

राजनीति

व्यापार