अब ‘Vi’ नाम से जानी जायेगी वोडफोन-आईडीया, कंपनी ने लॉन्च किया नया ब्रांड

 249 ,  1 

वोडाफोन आइडिया लिमिटेड (Vodafone Idea) ने सोमवार को बड़ी घोषणा की है। कंपनी ने सोमवार को अपने ब्रांड की रीलॉन्चिंग की है। कंपनी ने ‘Vi’ के रूप में अपने आप को रीब्रांड किया है। इस तरह कंपनी ने लोगों के बीच अपनी पूरी तरह से एक नई पहचान बनाने की कोशिश की है।

अगस्त 2018 में वोडाफोन इंडिया और आइडिया सेल्युलर के विलय से बनी वोडाफोन-आइडिया लिमिटेड ने एक नए ब्रांड की घोषणा की है। कंपनी इस समय एक कठिन दौर से गुजर रही है, जहां पेरेंट कंपनी वोडाफोन ग्रुप भी किसी तरह का अतिरिक्त फंड देने को तैयार नहीं है।

कंपनी ने ये भी दावा है कि मर्जर के बाद से देश भर में 4G की कवरेज डबल हो गई है। हालांकि कंपनी ने इस दौरान नए प्लान्स का तो ऐलान नहीं किया है, लेकिन ये हिंट दिया गया है टैरिफ की कीमतें बढ़ेंगी।

रेस कॉन्फ़्रेंस के दौरान वोडाोफोन आईडिया लिमिटेड के सीईओ रविंद्र टक्कर ने ये भी कहा है कि सभी कम क़ीमत पर बेच रहे हैं और कंपनी को कदम उठाने में शर्म की बात नहीं है।

यहाँ वो इस बात के लिए भी हिंट दे रहे थे कि आने वाले समय में बेहतर सर्विस के साथ ही टैरिफ़ की क़ीमतें भी बढ़ाईं जा सकती हैं।

वोडाफ़ोन आईडिया लिमिटेड के सीईओ रविंद्र टक्कर ने कहा है कि वोडाफ़ोन आईडिया दो साल पहले मर्ज्ड एंटिटी के तौर पर स्थापित किए गए थे. तब से अब तक दोनों बड़े नेटवर्क्स को एक करने का काम चल रहा था और अब VI ब्रांड नेम से इसे पेश किया जा रहा है।

गौरतलब है कि इन दिनों वोडाफोन आइडिया संकट के दौर से गुजर रही है। हालांकि, एजीआर बकाया को लेकर सुप्रीम कोर्ट से कंपनी को राहत मिली थी। कंपनियां अब 10 साल में अपना एजीआर बकाया चुका सकती है। आइडिया को करीब 50 हजार करोड़ का बकाया जमा करना है जिसमें ज्यादातर एजीआर का है। वोडाफोन आइडिया ने वर्चुअल कॉन्फ़्रेंस के जरिये बड़ा ऐलान किया। कंपनी ने वेब टेलिकास्ट के जरिए आगे के रोडमैप और कंपनी की नई रणनीति को लेकर बात की।

दिलचस्प

राजनीति

व्यापार