राज ठाकरे का बेतुका बयान- प्रवासी मजदूरों के कारण महाराष्ट्र में बढ़ा कोरोना

 133 ,  1 

राज ठाकरे ने कहा परप्रांतीय फैला रहे हैं कोरोना

जवाब में निरुपम बोले- ‘बहिरा नाचे आपन ताल’

महाराष्ट्र में कोरोना के मामले बढ़ने से महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ने एक विवादास्पद बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि महाराष्ट्र में कोरोना बढ़ने के लिए प्रवासी मजदूर जिम्मेदार है। राज ठाकरों ने कहा कि देश में सबसे ज्यादा उधोग महाराष्ट्र में हैं। दूसरे राज्यों से बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर यहां आते है। जहां से ये प्रवासी मजदूर आते है। वहां कोरोना के टेस्ट के लिए सुविधाओं की कमी है।

राज ठाकरे ने कहा कि पिछले साल लोकडाउन के दौरान मैने सुझाव दिया था कि अपने घरों को लौटने वाले प्रवासी मजदूरों का टेस्ट किया जाना चाहिए। लेकिन ऐसा नहीं किया गया। राज ठाकरे ने कहा कि उन्होंने सीएम से कहा कि वे खिलाड़ियों को अभ्यास सत्र में शामिल होने की अनुमति दे सकते है और जिस को सोशल डिस्टेसिंग के साथ खोले जाने की इजाजत दे सकते है।

महाराष्ट्र में कोरोना वेक्सीन की कमी

 महाराष्ट्र में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है। राज्‍य के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री राजेश टोपे ने बताया कि हमारे पास विभिन्न टीकाकरण केंद्रों पर पर्याप्त वैक्सीन खुराक उपलब्‍ध नहीं है, खुराक की कमी के की वजह से हमें लोगों को वापस भेजना पड़ रहा है। हमने केंद्र से मांग की है कि 20 से 40 वर्ष तक के लोगों को भी प्राथमिकता के आधार पर कोरोना वैक्‍सीन की खुराक दी जानी चाहिए।  

कोरोना वैक्‍सीन की कमी को लेकर मुंबई के मेयर किशोरी पेडेकर का कहना है कि  मुंबई में COVID-19 वैक्सीन की खुराक की कमी है। कल, हमारे पास 1,76,000 वैक्सीन की खुराक थी लेकिन आने वाले दिनों में हमें और टीकों की आवश्यकता होगी। 

संजय निरुपम का पलटवार
राज ठाकरे के इस वक्तव्य के बाद महाराष्ट्र के कांग्रेस के नेता और पूर्व सांसद संजय निरुपम ने ट्विटर पर जवाब देते हुए लिखा है, ‘ बहिरा नाचे आपन ताल’ इस आरोप प्रत्यारोप के बाद महाराष्ट्र में बर्फ एसे भूमि पुत्र बनाम पर प्रांतीय की राजनीति जन्म ले रही है।

दिलचस्प

राजनीति

व्यापार