चाइना के मोबाइल को बेचने के लिए कंपनी ने अपनाया नया तरीका

 149 ,  9 

कंपनियां ‘मेड इन चाइना’ का रुतबा दिखाकर भारत में कारोबार कर रही थीं, उनके सुर बदल गए हैं। चीनी उत्पादों के विरोध में शुरू हुए माहौल में अब चीनी कंपनियों ने ‘मेड इन इंडिया’ का राग गाना शुरू कर दिया है। भारत में बदले माहौल से डरी शाओमी ने एमआई ब्रांड स्टोर के बाहर ‘मेड इन इंडिया’ के बैनर लगाने का फैसला किया है। वहीं अन्य कंपनियां भी अपने को भारत की कंपनी कहलाने की कोशिश में जुट गई हैं। 

ट्वीट’ से बताया भारतीयों को दे रहे रोजगार

चीनी विरोध के कारण कारोबार पर पड़ते असर से परेशान चीनी कंपनियों में हलचल है। चीनी कंपनी शाओमी ने तो प्रदेश भर के एमआई ब्रांड स्टोर पर तिरंगे के साथ ‘मेड इन इंडिया’ लिखने को कहा है।  यही नहीं कंपनी ने यह भी कहा कि हमारा अधिकतर सामान भारत में बनता है और फैक्ट्रियों में हम हजारों भारतीयों को रोजगार देते हैं। 

ऑल इंडिया मोबाइल रिटेलर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष नीरज जौहर बताते हैं कि चीन की सभी मोबाइल कंपनियों को जमीनी सच्चाई से अवगत कराने के लिए पत्र लिखा था। कंपनियों से कहा गया कि ताजा हालात को देखते हुए रिटेलरों को कुछ महीनों के लिए स्टोर के बाहर का बोर्ड हटा लेने या किसी बैनर से ढकने की मांग रखी थी। इसके बाद कई कंपनियों ने भारतीय होने का ही दावा किया है। 

भारत में विदेशी पुर्जों को जोड़कर मोबाइल बना रही चीन की कई कंपनियों ने भी भारतीय होने का दावा ठोंका है। इनका कहना है कि हम तो पहले से ही अपने उत्पाद पर ‘मेड इन इंडिया’ की मोहर चस्पा कर रहे हैं। इन कंपनियों के सेल्समैन भी आने वाले ग्राहकों को यह मोहर दिखाकर अपना माल बेच रहे हैं। 

दिलचस्प

राजनीति

व्यापार