ये है देश के पांच सबसे बड़े बिग बुल, इनके इशारे पर नाचता है बाजार

 226 ,  1 

आज रिलीज होगी शेयर बाजार के ‘द बिग बुल’ की कहानी, जानिये देश पांच बिग बुल के बारे मेंं

देश में एक और कोरोना के चलते ज्यादातर लोगों का बजट गड़बड़ाया हुआ है, तो दूसरी ओर लोगों का इंट्रेस्ट शेयर बाजार में बढ़ रहा है। हो भी क्यों ना… अच्छा मुनाफा कौन नहीं कमाना चाहता? सालभर पहले अगर आपने 1 लाख रुपए का निवेश किया होता तो अब वो 1 लाख 70 हजार रुपए हो गया होता। यानी सालभर में करीब डेढ़ गुना रिटर्न। इन्हीं आंकड़ों का ही तो असर रहा, जो पिछले एक साल में देश के रिटेल निवेशकों (डीमेट अकाउंट) की संख्या 1 करोड़ बढ़कर 5 करोड़ के पार पहुंच गई है।

जानकार मानते हैं कि लोगों में इन्वेस्टमेंट नॉलेज भी बढ़ी है। अब इसका असर फिल्मी दुनिया पर भी दिखने लगा है। नतीजतन, अब शेयर मार्केट से जुड़ी घटनाएं भी पर्दे पर छा रही है। इसका एक अच्छा उदाहरण पिछले साल अक्टूबर में आई वेब सीरीज ‘स्कैम 1992’ रही, जो देश के पहले बिग बुल हर्षद मेहता पर बेस्ड थी। इसको दर्शकों ने जबरदस्त रिस्पांस दिया। अब हर्षद की ही स्टोरी दूसरे एंगल से ‘द बिग बुल’ आज यानी 8 अप्रैल को शाम 7:30 बजे ओटीटी प्लेटफॉर्म पर लॉन्च होने वाली है।

फिल्म के मुख्य किरदार यानी हीरो अभिषेक बच्चन हैं, जो बिग बुल की भूमिका में हैं। यह पूरी कहानी हर्षद मेहता की जिंदगी और 1980 से 1990 के दौरान शेयर बाजार की उठा पटक पर है। यहां तो सिर्फ एक बिग बुल की बात हो रही है। लेकिन हम आपको बताने वाले हैं शेयर बाजार के 5 बड़े निवेशकों के बारे में, जिन्होंने शेयर बाजार से जमकर दौलत कमा रहे हैं….

1. राकेश झुनझुनवाला:
झुनझुनवाला देश के सबसे बड़े व्यक्तिगत निवेशक हैं। इन्हें आज का भी बिग बुल कहा जाता है। फोर्ब्स के मुताबिक 8 अप्रैल तक इनकी नेटवर्थ 4.3 अरब डॉलर (32.19 हजार करोड़ रुपए) है। झुनझुनवाला के पिता इनकम टैक्स विभाग के अधिकारी रहे हैं। उन्होंने कॉलेज के दिनों से ही शेयर बाजार में निवेश की शुरुआत की थी। तब उन्होंने 100 डॉलर का निवेश किया था। खास बात यह है कि तब सेंसेक्स इंडेक्स 150 पॉइंट पर था, जो अब 50 हजार के स्तर पर कारोबार कर रहा है।

2. राधाकिशन दमानी:
रिटेल किंग के नाम से मशहूर राधाकिशन दमानी जाने-माने निवेशक भी हैं। फोर्ब्स के मुताबिक दमानी भारत के चौथे सबसे अमीर इंसान हैं। इनकी कुल नेटवर्थ 16.5 अरब डॉलर यानी 1.23 लाख करोड़ रुपए है। एवेन्यू सुपरमार्ट जिसे हम डीमार्ट के नाम से जानते हैं, इन्हीं की कंपनी है। देश में कंपनी के करीब 221 शॉपिंग स्टोर हैं। दमानी के पोर्टफोलियो में VST इंडस्ट्रीज, इंडिया सीमेंट सहित रेडिसन ब्लू रिसॉर्ट की हिस्सेदारी है।

3. रामदेव अग्रवाल:
ब्रोकिंग कंपनी मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेस के को-फाउंडर और जॉइंट एमडी रामदेव अग्रवाल निवेशकों के बीच काफी चर्चित हैं। बतौर सफल निवेशक अग्रवाल ने अपने कैरियर की शुरुआत 1987 से की। फोर्ब्स द्वारा 2018 में जारी आंकड़ों के मुताबिक इनकी नेटवर्थ 1 अरब डॉलर (7,492 करोड़ रुपए) की रही। रामदेव अग्रवाल छत्तीसगढ़ के रायपुर के रहने वाले हैं।

4. पोरिंजू वेलियाथ:
पोरिंजू वेलियाथ को स्मॉलकैप शेयरों का शहंशाह माना जाता है। इन्हें छोटे शेयरों से ज्यादा रिटर्न कमाने के लिए जाना जाता है। आनलॉइन वेबसाइट ट्रेडलाइन (Trendylne) के मुताबिक जून 2020 को इनकी नेटवर्थ 17.95 करोड़ रुपए रही। वेलियाथ फंड मैनेजमेंट कंपनी इक्विटी इंटेलिजेंस इंडिया प्रा. लि. के ओनर हैं।

5. डॉली खन्ना:
इन्होंने शेयर बाजार में अपनी शुरुआत 1996 में की थी। IIT मद्रास से ग्रेजुएशन करने वाली डॉली ने शुरुआती दिनों में मैन्युफैक्चरिंग, टेक्स्टाइल और केमिकल सेक्टर में निवेश किया। आइस क्रीम बनाने वाली कंपनी क्वालिटी मिल्क प्रोडक्ट्स की शुरुआत डॉली ने पति राजीव के साथ मिलकर की थी, जिसे 1995 में हिंदुस्तान युनिलीवर के बेच दिया। डील से मिली रकम से इन्होंने शेयर बाजार में ट्रेडिंग शुरु की।

डॉली निवेश के लिए छोटी कीमत के शेयर चुनती हैं। उनकी सफलता के कारण दलाल स्ट्रीट पर उन्हें फॉलो करने वालों की संख्या काफी बढ़ी है। Trendylne के मुताबिक डॉली खन्ना की कुल नेटवर्थ जून 2020 में 65 करोड़ रुपए रही।

दिलचस्प

राजनीति

व्यापार