September 28, 2022
September 28, 2022
Menu

विश्व नारियल दिवस: खाली पेट नारियल पानी पीने के है कई फायदे

 75 ,  2 

कई सारे न्यूट्रिशन से भरा नारियल सेहत के लिए फायदेमंद

नारियल कई सारे न्यूट्रिशन से भरा हुआ सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद फल है। नारियल के इसी गुणों और महत्व को बताने के लिए हर साल 2 सितंबर को विश्व नारियल दिवस (World Coconut Day) मनाया जाता है। इस साल यानी 2022 में 2 सितंबर को 14वां वर्ल्ड कोकोनट डे मनाया जा रहा है। अक्सर आपने देखा होगा कि लोगों को खाली पेट नारियल पानी पीने की आदत होती है। ऐसे में बता दें कि यदि खाली पेट नारियल पानी पिया जाए तो इससे सेहत को कई फायदे हो सकते हैं। ऐसे में इन फायदों के बारे में पता होना जरूरी है। आज हम आपको बताएंगे कि आप यदि सुबह खाली पेट नारियल पानी का सेवन करते हैं तो क्या फायदे हो सकते हैं।

त्वचा की कई समस्याओं को दूर करने के लिए आप अपनी डाइट में नारियल का पानी जोड़ सकते हैं. ऐसे में आप नियमित रूप से नारियल के पानी का सेवन करें। व्यक्ति को पथरी होने के दौरान तरल पदार्थों का सेवन करना होता है। ऐसे में यदि खाली पेट नारियल पानी का सेवन किया जाए तो इससे न केवल गुर्दे में मौजूद पथरी मूत्र मार्ग से बाहर आ सकती है बल्कि व्यक्ति की किडनी भी डिटॉक्सफाई होती है। पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में खाली पेट नारियल पानी आपके बहेद काम आ सकता है। बता दें कि गलत जीवनशैली और गलत खानपान की आदतों के चलते लोगों को पाचन से संबंधित समस्याएं हो सकती हैं. ऐसे में आप नियमित रूप से नारियल पानी का सेवन कर सकते हैं। यदि आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो ऐसे में आप नारियल पानी को अपनी डाइट में जोड़ सकते हैं। बता दें कि नारियल पानी के अंदर डाइटरी फाइबर पाया जाता है जो चर्बी के बढ़ने से रोक सकता है और वजन को भी कम करने में उपयोगी है।

विश्व नारियल दिवस का इतिहास
हर साल 2 सितम्बर को नारियल उत्पादक देशों के अंतर सरकारी संगठन ‘अंतर्राष्ट्रीय नारियल समुदाय (ICC)’ की स्थापना को चिह्नित करने के लिए विश्व नारियल दिवस मनाया जाता है। इस दिन को पहली बार एशिया प्रशांत नारियल समुदाय ने 2 सितंबर 2009 को मनाया था।

इंटरनेशनल कोकोनट कम्युनिटी (ICC) की स्थापना साल 1969 में एशिया-प्रशांत क्षेत्र के लिए संयुक्त राष्ट्र आर्थिक व सामाजिक आयोग (UN-ESCAP) के तत्वावधान में हुई थी। उस समय इसे एशियाई और प्रशांत नारियल समुदाय के रूप में जाना जाता था। इसका मुख्यालय जकार्ता, इंडोनेशिया में है और वर्तमान में इस संगठन में कुल 20 देश शामिल है जिसका भारत भी सदस्य है। भारत दुनिया के टॉप नारियल उत्पादक देशों में से एक है, जिसमें कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश जैसे राज्यों का प्रमुख रूप से शामिल हैं। देश की बात करें तो इंडोनेशिया दुनिया में सबसे ज्यादा नारियल का उत्पादन करता है।